यौधेय गण के संस्थापक आदि पुरुष महाराज अहिबरन को जन्म जयन्ती दिवस पर किया गया स्मरण

बरनवाल सेवा सदन वाराणसी में अध्यक्ष राजेंद्र बरनवाल के अध्यक्षता में संरक्षक अरुण बरनवाल, संजय बरनवाल सहित सदस्यों के साथ आदि पुरुष व यौधेय गण के संस्थापक महाराज अहिबरन के जन्म दिवस के अवसर पर महाराज अहिबरन के चित्र पर माल्यार्पण व पुष्पांजलि अर्पित करते हुए अहिबरन वन्दना किया । वहीं दूसरी तरफ पूरे देश के विभिन्न क्षेत्रों के सहयोग से उत्तर प्रदेश के प्रादेशिक अध्यक्ष श्रीकांत बरनवाल के नेतृत्व में बरनवाल समाज ने आदि पुरुष महाराज अहिबरन, कुल देवी माता चामुण्डा देवी एवं मां सरस्वती जी के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर आरती करते हुए बुलन्दशहर के नुमाइस मैदान स्थित हाल में मुख्य अतिथि के रूप में बुलन्दशहर के विधायक प्रदीप चौधरी व विशिष्ट अतिथि नगर पालिका परिषद की अध्यक्ष दीप्ति मित्तल की उपस्थिति में महाराज अहिबरन के जन्मोत्सव को धूमधाम से मनाया ।
इस अवसर पर समाज की ओर से दायित्वधारियों द्वारा मुख्य अतिथि व विशिष्ट अतिथि से बुलन्दशहर को पुराने नाम बरन नगर करने का आग्रह किया गया व पत्रक सौंपा गया । शहर के किसी भी एक प्रमुख चौराहे पर महाराज अहिबरन जी के दिव्य व भव्य मूर्ति तथा प्रमुख मार्ग को महाराज अहिबरन जी के नाम पर नामकरण का आग्रह भी किया । अतिथि द्वय ने कहा कि आप बरनवाल समाज के प्रतिनिधियों द्वारा महाराज अहिबरन जी के वंशज होने के कारण इस मांग को उचित ठहराते हुए आने वाले समय में इसे अति शीघ्र प्रभावित करने का आश्वासन दिया । इससे पहले सांसद डॉ. भोला सिंह जी ने विशाल शोभायात्रा को रवाना किया, जो विभिन्न मार्गों से होता हुआ कार्यक्रम स्थल पहुंचा ।
इस अवसर पर राष्ट्रीय अध्यक्ष शशि भूषण बरनवाल, राष्ट्रीय महामंत्री प्रदीप कुमार बरनवाल, प्रदेश महामंत्री रविन्द्र बरनवाल, कोषाध्यक्ष शिवाजी बरनवाल, प्रदेश महिला अध्यक्षा नीशिमा बरनवाल, सुरेश गर्ग, अतुल बरनवाल, कृष्ण मोहन गोयल, राहुल, नीरज , सुनिल, मोहनलाल, आलोक (धुलियान), गोपाल, अनुराग, शीतल, मंजरी, आरती, शकुन्तला, रवि प्रकाश बरनवाल, विनोद कौशिक, सुषमा कौशिक सहित सैकड़ों बरनवाल बन्धु, महिलाएं व बच्चे उपस्थित रहें ।
एक से बढ़कर एक सांस्कृतिक कार्यक्रमों को सूरज बरनवाल व मोना बरनवाल के नेतृत्व में प्रस्तुत किया गया ।
कार्यक्रम का कुशल संचालन अभिषेक बरनवाल ने किया । इस अवसर पर साहित्य प्रेमियों के लिए मुन्नीलाल द्वारा लिखित जाति रत्न डॉ. त्रिवेणी प्रसाद बरनवाल पर पुस्तक का विमोचन हुआ । बरनवाल पुस्तक प्रदर्शनी के माध्यम से अन्य साहित्यकारों के पुस्तकों का विक्रय किया गया जिसमें समाज की बेटी बी.आयुषी द्वारा लिखित पुस्तक “दोहों का नव आलोकन” को काफी सराहना मिली । यह पुस्तक अमेज़न व फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध है । इस अवसर पर महाराज अहिबरन जी का अंतरराष्ट्रीय वेबसाइट का भी शुभारंभ अतिथि द्वय द्वारा हुआ ।

Loading

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *